Bihar Board PATNA

Bihar Board PATNA : बिहार के 9 हजार से अधिक स्कूलों के कोड बदले, 16 साल बाद BSEB ने लिया बड़ा फैसला

बिहार बोर्ड पटना : बिहार के 9 हजार से अधिक स्कूलों के कोड बदले, 16 साल बाद बीएसईबी ने लिया बड़ा फैसला

 

हमारे WhatsApp Group मे जुड़े👉 Join Now

हमारे Telegram Group मे जुड़े👉 Join Now

बिहार बोर्ड पटना :  बिहार विद्यालय परीक्षा समिति यानी बीएसईबी ने बड़ा फैसला लेते हुए 9200 स्कूलों का कोड बदल दिया है। बोर्ड की तरफ से 16 साल बाद 9वीं से 12वीं तक के सभी स्कूलों को नया कोर्ड जारी कर दिया है। बिहार बोर्ड ने वर्ष 2007 में अंतिम बार जब इंटर को माध्यमिक से अलग किया गया था, तब सभी इंटर स्कूलों को नया कॉर्ड दिया गया था। बोर्ड की तरफ से स्कूलों को 10 दिन का समय दिया जाता है ताकि अगर डेटाबेस में कोई गड़बड़ी हो तो उसे सुधार लिया जाए।

BSEB के द्वारा लगभग 16 साल के बाद राज्यभर के नौवीं और बारहवीं के कुल 9200 स्कूलों को 11 अंकों का नया कोड दिया गया है। यह कोड माध्यमिक और उच्च माध्यमिक स्कूलों को मिला है। इससे पहले साल 2007 में स्कूलों को 10 अंकों का कोड मिला था। अब स्कूलों की सभी गतिविधियां और बोर्ड द्वारा प्रक्रियाएं कोड 11 से दी जाएंगी। सभी स्कूलों का नया कोड BSEB की ऑफिशियल वेबसाइट biharboardonline.bihar.gov.in पर उपलब्ध है। स्कूल आपना कोड वेबसाइट पर जा कर बीएसईबी न्यू कोड नाम के लिंक पर जा कर देख पाएंगे।

स्कूलों के नए कोड में अंकों के साथ-साथ अंग्रेजी के अल्फाबेट को शामिल किया गया है। इस कोड के मिलने के बाद अब स्कूलों की सारी गतिविधियों को ऑनलाइन देखा जा सकता है। किस स्कूल के पास कितनी मूलभूत सुविधाएं हैं, कितने छात्र- छात्राएं हैं, ऐसी तमाम जानकारियां एक क्लिक में बोर्ड के पास उपलब्ध हो जाएगी। बिहार स्कूल एग्जामिनेशन बोर्ड इसके जरिए राज्यभर के स्कूलों पर एक साथ नजर रख सकेगा।

11 अंकों के कोड से स्कूलों की पहचान हो सकेगी।

पहली अंकन स्कूल के स्तर को यादगार। सेकेंड मार्किंग स्कूल में छात्र-छात्राओं या कोडेय स्कूल की जानकारी देखेंगे। तीसरा अंक चिन्हित करेगा कि स्कूल किस अनुमंडल में हैं।चौथा अंक जिले को सबंधित होगा। अंतिम पांच अंक के सरकारी, गैर सरकारी, कल्याण और अल्पसंख्यक स्कूलों को प्रतिबिंब स्कूल। बोर्ड ने सभी स्कूलों को 10 दिन का समय दिया है ताकि वे जांच कर सकें कि सभी विवरण सही हैं या नहीं, यदि किसी प्रकार की गड़बड़ी है तो उसके सूचना बोर्ड को चुने जाने को कहा गया है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *